मऊ, उत्तर प्रदेश

Deutsch فارسی Tiếng Việt Bahasa Melayu Português English Русский Français 中文 Polski Svenska Nederlands Српски / Srpski Italiano Català

मान्यताओं के अनुसार पांडवो के वनवास के समय वो मऊ ज़िले से होकर गुजरे थे, आज वो स्थान खुरहट के नाम से जाना जाता है। ज़िले की उत्तरी सीमा पर सरयू नदी के तीर पर बसे छोटे से दोहरीघाट के बारे में मान्यता है कि यहाँ श्रीराम और परशुराम जी मिले थे। दोहरीघाट से दस किलोमीटर पूर्व सूरुजपुर नामक गाँव है, जहां पर श्रवणकुमार का समाधिस्थल है, और मान्यता अनुसार यहीं श्रवणकुमार राजा दशरथ के शब्दवेधी बाण का शिकार हुए थे।

Wikipedia



Impressum