भीलवाड़ा

Deutsch فارسی Tiếng Việt Bahasa Melayu English Русский Français 中文 Polski Svenska Nederlands Српски / Srpski Italiano Català

भीलवाड़ा सिटी, राजस्थान के मेवाड़ का एक नगर है। राजस्थान के मेवाड़ क्षेत्र में स्थित भीलवाड़ा राज्य के सबसे बड़े जिलों में से एक है और ऐतिहासिक महत्व के कारण पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। हालांकि, कई धार्मिक स्थलों की उपस्थिति के कारण यहां हिंदू धर्म के अनके श्रद्धालु भी आते हैं। प्राचीन कालानुक्रमिक वर्णन के अनुसार, यह माना जाता है कि भीलवाड़ा शहर 11 वीं शताब्दी में किसी समय पाया गया था, उसी समय जब "भील" जनजाति ने "जटाऊँ शिव मंदिर" नामक मंदिर , भगवान शिव के लिए एक मंदिर का निर्माण किया था । हालांकि, इस जगह की स्‍थापना की असल तारीख और समय का अब तक पता नहीं चल पाया है। भीलवाड़ा सदियों से भील जनजाति का निवास स्थान रहा है। किवदंती कि इस शहर का नाम यहां की स्‍थानीय जनजाति भील के नाम पर पड़ता है जिन्‍होंने 16वीं शताब्‍दी में अकबर के खिलाफ मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप की मदद की थी। तभी से इस जगह का नाम भीलवाड़ा पड़ गया।1948 में राजस्थान का भाग बनने से पूर्व भीलवाड़ा भूतपूर्व उदयपुर रियासत का हिस्सा था साहस और बलिदान की भूमि भीलवाड़ा वीर योद्धा महाराणा प्रताप की एक अद्भुत पहचान है।और भीलवाङा का नामकरण भील राजा श्री भलराज के नाम से पङा भीलवाङा के राजा श्री भलराज भील बहादुर शक्तिशाली निडर यौद्धा थे ।

Wikipedia



Impressum